चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

शादी एक बहुत अहम् पहलू है जीवन का चाहें वो हिन्दू में, मुस्लिम में हो, या सिख या ईसाईयों में. दोस्तों आज हम बताने जा रहे हैं की ईसाईयों की शादी कैसे होती है. इनकी शादियां बहुत ही सादगी के साथ होती है. जिसमे लड़की प्यारा सा गाउन पहन के बिलकुल प्रिंसेस की तरह तैयार हो कर हाथ में फूलों का गुलदस्ता लेके आती है. और लड़का प्रिंस की तरह सूट पहन के उसका पादरी के पास इंतजार करता है.

# इंगेजमेंट:

सबसे पहले इनकी भी हिन्दू लोगो की तरह सगाई होती है जो लड़की के घर में होती है यहाँ पादरी बाइबल से कुछ पाठ पढ़ कर दोनों को ring exchange करने को कहते हैं. जिसमे दोनों पक्ष के लोग और कुछ गेस्ट होते हैं. और वहीं शादी की तारिख भी तय की जाती है.

# शादी की पुकार:

शादी से पहले चर्च में शादी की घोषणा की जाती है। शादी की 3 पुकार के बाद ही विवाह सम्पन्न किया जा सकता है।

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

# चर्च में दुल्हन का स्वागत:

ये इनका अनोखा नियम होता है इसमें लड़का सूट पहन के पहले से ही चर्च में लड़की का इन्तजार करता है और फिर लड़की एक प्यारा सा गाउन पहन के अपने हाथों में फूल का गुलदस्ता लेके अपने पिता द्वारा लाइ जाती है.

# होमिली:

जब लड़का और लड़की दोनों आ जाते हैं तब पादरी बाइबल से कुछ सरमन पढ़ते हैं जिसे ईसाई लोग होमिली कहते हैं.

# न्यूप्चिलस:

होमिली हो जाने के बाद पादरी का दाइत्व होता है की वो लड़का और लड़की से कुछ सवाल करे और उनकी शादी के लिए दोनों की मर्जी पूछे और इस सवाल का जवाब देना दोनों के लिए जरूरी होता है.

# रिंग एक्सचेंज:

यदि लड़का और लड़की दोनों शादी के लिए हाँ कर देते हैं तो फिर दोनों को एक दूसरे को ring exchange करनी होती है और उसके बाद दोनों पादरी से आशीर्वाद लेते हैं और अपने बड़ों से भी.

# रजिस्ट्रेशन:

यह अंतिम रस्म होती है, जिसमें शादी के सारे दस्तावेज पर, गवाहों की मौजूदगी में लड़का लस्की को सिग्नेचर करने होते हैं। इसे रजिस्ट्रार के पास जाकर उन्हें दिया जाता है।

# डिपार्चर:

इसमें शादी पूरी हो जाने के बाद लड़का लड़की खुसी खुसी अपना बूके पीछे की और उछालते हैं और जो उसे कुंवारा लड़का या लड़की इसे पकड़ लेगा उसकी शादी जल्दी हो जाएगी.

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

# रिसेप्शन:

शादी होने के बाद लोगों को दावत खिलाने की रश्म होती है जिसमे दोनों पक्ष के रिश्तेदार और दोस्त लोग आते हैं और खुशियों में सरीख होते हैं.

आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी किसी लगी हमे जरूर बताएं और यदि आपको हमसे कोई सवाल भी पूछना है तो आप नीचे दिए गए बॉक्स में पूछ सकते हैं. हम आशा करते हैं की आप हमे और अच्छी बातें आपको बताने का मौका देंगे।।। धन्यवाद

 चर्च में शादी की फोटो !!

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

 

चर्च में शादी कैसे होती है | ईसाई विवाह के नियम | ईसाई शादी प्रक्रिया !!

चर्च में शादी कैसे होती है Video !!

Ankita Shukla

अंकिता शुक्ला Oyehero.com की कंटेंट हेड हैं. जिन्होंने Oyehero.com में दी गयी सारी जानकारी खुद लिखी है. ये SEO से जुडी सारे तथ्य खुद हैंडल करती हैं. इनकी रूचि नई चीजों की खोज करने और उनको आप तक पहुंचाने में सबसे अधिक है. इन्हे 1.5 साल का SEO और 3.5 साल का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है !!

This Post Has One Comment

  1. Please help me..
    Me ek ladki se pyaar karta hoon wo bhi karti hai.. Hum dono ek hi church se hai.. Kya hum saadhi kar sakthe hai… Please reply

Leave a Reply

Close Menu