तनाव से बाहर निकलने के कुछ टिप्स !!

आज कल जब भी हम कहीं भी कोई भी खबर सुनते हैं तो उसमे ज्यादातर लोगों की आत्महत्या की खबरें सामने आती है. चाहे वो खबर हमको अखबार या टीवी से मिले. या किसी और तरीके से. जो ये आजकल आत्महत्या की दिन प्रति दिन ख़बरे बढ़ती जा रही हैं उसका सबसे बड़ा कारण कहीं न कहीं लोगों का बढ़ता हुआ तनाव है. जो उन्हें ये सब करने पे कहीं न कहीं मजबूर करता जा रहा है. इसे हम एक छोटी बात मान के अनदेखा नहीं कर सकते ये एक बहुत भयानक रूप ले चूका है.

तनाव सुनने में तो एक सामान्य चीज लगता है लेकिन इसे हम अनदेखा नहीं कर सकते हैं. इसमें कोई भी इंसान सामान्य बर्ताब नहीं करता है. और धीरे धीरे अपना मानसिक संतुलन भी खोने लगते हैं. और कभी कभी ये एक बड़ा रूप ले लेता है और लोगों को आत्महत्या करने पर मजबूर कर देता है. लेकिन अगर हम सतर्कता बरते तो हम इससे बच भी सकते हैं और इसके लिए हमे कुछ घरेलू उपचार करने चाहिए जो की हमे इससे निजात दिलाने में सहायता करते हैं.

जैसा की हम सब जानते है कि तनाव की कई बजह हो सकती हैं लेकिन इसके लक्षण लगभग एक समान ही होते हैं. जैसे नींद न आना, हर बार चिडचिडा या क्रोध में रहना, अपने आप को कोसना लग्न, बदकिस्मत समझने लगना, बात बात पे भाबुक होना आदि. यदि आपके पास में भी कोई ऐसी परेशानियों का सामना कर रहा हो तो उसे हमारे द्वारा दिए गए उपाय बतायें जो की निचे दिए हुए हैं.

तनाव से बाहर निकलने कुछ टिप्स – Depression Treatment in Hindi

अच्छा समय बिताना:

कभी भी आप तनाव महसूस करें तो अपना खाली समय अकेले कुछ भी सोचने से ज्यादा लोगों के बीच अच्छा समय व्तीत करने में लगाये. और जिन लोगों के बीच आप अपना समय दे रहे हैं वो लोग आपके अच्छे मित्र भी हो सकते हैं, आपके परिवार वाले भी या कोई आपका हितेषी. और अच्छा समय बिताने के लिए आप बाहर घूमने भी जा सकते हैं. अपनी छुट्टियों को एन्जॉय करने के कोई भी उपाय ढूंढ सकते हैं. जो आप को ज्यादा सोचने से बचाएगा.

खुल के बात करना:

कभी भी आप को ज्यादा तनाव महसूस हो तो आप अपने अंदर की बातें जरूर किसी न किसी से शेयर करें जो की आपकी सहायता कर सकता हो. या आपको अच्छी सलाह देने में सक्षम हो. ये एक राम बाण तरीका है अपने तनाव को दूर करने का.

Workshops and Seminars:

अगर आपका तनाव आपके काम को लेके है जो की आपके करियर से जुड़ा है तो आप कई प्रकार की वर्कशॉप और सेमिनार भी जा सकते हैं और काफी कुछ सीख सकते हैं. जो की आपके काम में सहायता देता है और आपको कोई न कोई उपाय भी देता ही है.

अपना मनपसंद काम करे:

कभी कभी हम अपने ऑफिस के काम में इतने मसरूफ़ हो जाते हैं की खुद की रुचियों को भूल ही जाते हैं. लेकिन डॉक्टर्स के रिसर्च से पता चला है की अपने रूचि वाली आदतों को हमेशा खुद से बांधे रखने से आपके तनाव को सहने की और उसे कम करने की क्षमता बढ़ती है.

Social Service:

कभी कभी लोगों की सेवा करने से भी बहुत सुकून मिलता है जो की एक जड़ीबूटी की तरह काम करता है. इसलिए जब तनाव बढ़ जाये तो लोगों की सहायता करनी चाहिए. उसके लिए आप NGO भी जा सकते हैं या गरीबों  की कई तरह से मदद भी कर सकते हैं. इससे भी तनाव बहुत कम होता है और सुकून मिलता है.

Motivational Songs, Movies, Videos:

जब कभी भी आपको लगता है की आप हार  रहे हैं या कुछ जीवन में नहीं पा रहे हैं तो आप कई मोटीवेशनल लोगों की स्पीच सुन सकते हैं या कुछ गाने भी जो की आपको आगे बढ़ने की शक्ति देगा और तनाव को भी दूर रखेगा. आजकल बहुत से वीडियोस भी आ गए हैं जो की आपको प्रोत्साहित करते हैं आगे बढ़ने को.

Running/Swimming:

आप अपने आप से ही लड़ाई लड़ रहे होते हैं जब आप तनाव में होते हैं तो ऐसे समय में आपको कोई ऐसा तरीका अपनाना चाहिए जो की आपके लिए एक चुनौती से कम न हो. जैसे की स्विमिंग, रनिंग और भी कुछ चैल्लेंजिंग गेम्स जो आपको एक चुनौती की तरह लगे और आप उससे लड़े ना की खुद से.

Drugs और Medicines से दूर रहे:

सबसे जरूरी बात ऐसे समय में ज्यादातर लोग कुछ ऐसी दवाइओं का सेवन करने लगते हैं जो की उनको अन्दर ही अन्दर खोखला बना देती हैं.ऐसी चीजों से खुद को दूर रहे और हेअल्थी फूड खाएं.

बहुत से लोग हमारे बीच में भी मौजूद हैं जिन्होंने तनाव का सामना किया और उस पे जीत हासिल की. युवराज सिंह, इंडियन क्रिकेटर उन्होंने कैंसर जैसी बड़ी बीमारी का हस के सामना किया और बाहर आके एक नई जिंदगी की शुरुआत की. लेकिन हार नहीं मानी तो हम क्यों नहीं .

Ankita Shukla :अंकिता शुक्ला Oyehero.com की कंटेंट हेड हैं. जिन्होंने Oyehero.com में दी गयी सारी जानकारी खुद लिखी है. ये SEO से जुडी सारे तथ्य खुद हैंडल करती हैं. इनकी रूचि नई चीजों की खोज करने और उनको आप तक पहुंचाने में सबसे अधिक है. इन्हे 1.5 साल का SEO और 3.5 साल का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है !! नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में आपको हमारे द्वारा लिखा गया ब्लॉग कैसा लगा. बताना न भूले - धन्यवाद 😊😊😊 !!