X
    Categories: Hindi Bio

विजय तेंडुलकर का जीवन परिचय !!

विजय तेंडुलकर का पूरा नाम “विजय धोंडोपंत तेंडुलकर” था, जो एक जाने माने भारतीय नाटककार, फिल्म और टेलीविजन लेखक, साहित्यिक निबंधकार, राजनीतिक पत्रकार, और सामाजिक टीकाकार मुख्य रूप से मराठी में थे। इन्हे लोग इनके नाटक शांता, कोर्ट चालु आहे (1967), घुश्मिर कोतवाल (1972), और सखाराम बिंदर (1972) के लिए मुख्य रूप से पसंद और जानते हैं. इनके कई नाटक सत्य घटनाओं पर भी आधारित रहे हैं. ये अपने समय में यू एस यूनिवर्सिटीज के छात्रों को “नाटक लिखने” की गाइडेंस दे चुके हैं. इन्होने 50 साल से भी ऊपर एक जानी मानी नाटक हस्ती के रूप में अपना स्थान महाराष्ट्र में कायम रखा था.

विजय तेंडुलकर की जीवनी | Vijay Tendulkar Biography in Hindi !!

असली नाम: विजय धोंडोपंत तेंडुलकर

उपनाम: पता नहीं

जन्मदिन (Date of Birth) : 6 जनवरी 1928

जन्मस्थान (Place of Birth) : गिरगाँव, बॉम्बे, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत

व्यवसाय: नाटककार, फिल्म और टेलीविजन लेखक, साहित्यिक निबंधकार, राजनीतिक पत्रकार, और सामाजिक टीकाकार

घर: बॉम्बे, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत

राशिनाम: कन्या

धर्म (Religion) : हिन्दू

जाति (Caste) : ब्राह्मण

शौक: लेखन

राष्ट्रीयता (Nationality) : भारतीय

विजय तेंडुलकर की शिक्षा (Education) !!

स्कूल: पता नहीं

कॉलेज / यूनिवर्सिटी: पता नहीं

शैक्षिक योग्यता: पता नहीं

विजय तेंडुलकर का परिवार (family) !!

पिता: पता नहीं

माता: पता नहीं

भाई: पता नहीं

बहन: पता नहीं

गर्लफ्रेंड: कोई नहीं

वैवाहिक स्थिति: कोई जानकारी नहीं

पत्नी: कोई जानकारी नहीं

बच्चे: कोई जानकारी नहीं

विजय तेंडुलकर डेब्यू !!

इन्होने अपनी पहली स्टोरी 6 वर्ष की आयु में लिखी.

विजय तेंडुलकर के पुरस्कार (Awards) !!

  • पद्म भूषण: 1984
  • संगीत नाटक अकादमी फैलोशिप: 1998
  • सर्वश्रेष्ठ पटकथा के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार: मंथन, 1977

विजय तेंडुलकर नाटक (Plays) !!

अजगर आणि गंधर्व, अशी पाखरे येती, एक हट्टी मुलगी, कन्यादान, कमला, कावळ्याची शाळा, गृहस्थ, गिधाडे, घरटे अमुचे छान, घाशीराम कोतवाल, चिमणीचं घर होतं मेणाचं, छिन्न, झाला अनंत हनुमंत, देवाची माणसे, दंबद्वीपचा मुकाबला, पाहिजे, फुटपायरीचा सम्राट, भल्याकाका, भाऊ मुरारराव, भेकड, बेबी, मधल्या भिंती, माणूस नावाचे बेट, मादी (हिंदी), मित्राची गोष्ट, मी जिंकलो मी हरलो, शांतता! कोर्ट चालू आहे, श्रीमंत, सखाराम बाईंडर, सरी गं सरी.

विजय तेंडुलकर पुस्तके (Books) !!

कादंबरी एक, कादंबरी दोन, मसाज

विजय तेंडुलकर के कुछ रोचक तथ्य (Facts) !!

# इनका जन्म 6 जनवरी 1928 को गिरगांव, मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ और उस दौरान मुंबई को बॉम्बे के नाम से जाना जाता था.

# इनका परिवार एक ब्राह्मण परिवार था, जिसमे इनके पिता एक लिपिक की नौकरी करते थे और एक छोटा सा प्रकाशन व्यवसाय चलाते थे. क्यूंकि इनके घर का माहौल काफी साहित्यिक था, उसी से इन्हे प्रेरणा भी प्रेरणा मिली और अपनी मात्र 6 वर्ष की आयु में इन्होने अपनी पहली स्टोरी लिखी.

# इनका बचपन सदैव पश्चिमी नाटक को देख के बीता, जिससे ये inspire हुए और खुद नाटक लिखने लगे. इन्होने मात्र 11 वर्ष की उम्र में अपना पहला नाटक, लिखा, उसका निर्देशन किया और उसमे अभिनय भी किया.

# इनके अधिकतर नाटक सत्य घटनाओं पर आधारित रहते थे, जो उसी समय किसी कारणवस घटित रहती थी, जिससे इनके नाटकों में सत्य की काफी छवि होती थी.

# ये लगभग 50 वर्षों तक महाराष्ट्र में एक अत्यधिक प्रेरक नाटककार और थिएटर व्यक्तित्व थे। ये वो व्यक्ति थे जिन्होंने अमेरिकी विश्वविद्यालयों में “नाटक लेखन” का अध्ययन करने वाले छात्रों को अपना मार्गदर्शन प्रदान किया और भारत को फिर एक उपलब्धि दिलाई.

# इन्होने मात्र 14 वर्ष की आयु में साल 1942 में चल रहे भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया, जिसके चलते इन्हे अपने परिवार, दोस्तों और पढ़ाई को अलविदा कहना पड़ा.

# इनकी अंतिम पटकथा ईश्वर माइम कंपनी (2005) के लिए थी, जो दिब्येंदु पालित की कहानी, मुखबिनॉय, और थिएटर निर्देशक श्यामानंद जालान द्वारा निर्देशित और आशीष विद्यार्थी और पवन मल्होत्रा के निर्देशन में बनाई गयी थी.

# इनका देहांत पुणे, महाराष्ट्र में 19 मई, 2008 को मायस्थेनिया ग्रेविस के प्रभाव से हुई थी।

# इनका करियर 50 वर्ष से ऊपर का था, जिसमे इन्होने 27 पुरे नाटक और 25 वन एक्ट नाटक लिखे.

Ankita Shukla: अंकिता शुक्ला Oyehero.com की कंटेंट हेड हैं. जिन्होंने Oyehero.com में दी गयी सारी जानकारी खुद लिखी है. ये SEO से जुडी सारे तथ्य खुद हैंडल करती हैं. इनकी रूचि नई चीजों की खोज करने और उनको आप तक पहुंचाने में सबसे अधिक है. इन्हे 1.5 साल का SEO और 3.5 साल का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है !! नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में आपको हमारे द्वारा लिखा गया ब्लॉग कैसा लगा. बताना न भूले - धन्यवाद 😊😊😊 !!