(Taxpayer & GST practitioner) करदाता और जीएसटी प्रैक्टिशनर में क्या अंतर है !!

0
2
Difference between Taxpayer and GST practitioner in Hindi | करदाता और जीएसटी प्रैक्टिशनर में क्या अंतर है !!

Difference between Taxpayer and GST practitioner in Hindi | करदाता और जीएसटी प्रैक्टिशनर में क्या अंतर है !!

नमस्कार दोस्तों…आज हम आपको “Taxpayer and GST practitioner” अर्थात “करदाता और जीएसटी प्रैक्टिशनर” के विषय में बताने जा रहे हैं. आज हम बताएंगे कि “करदाता और जीएसटी प्रैक्टिशनर क्या है और इनमे क्या अंतर होता है?”. कई पाठकों के समान सवाल के कमेंट हमे आये, जिसमे उनका सवाल “करदाता और जीएसटी प्रैक्टिशनर” की जानकारी पाना था. वो दरसल इन दोनों को हिंदी में जानना और इनके बीच के अंतर को पहचानना चाहते हैं. इसलिए आज हम इस टॉपिक को आपके सामने लेके आये हैं. तो चलिए शुरू करते हैं आज का टॉपिक.

एक करदाता वो होता है जो अपनी आय पर कर देने के अधीन होता है जबकि GST प्रैक्टिशनर सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त वह व्यक्ति होता हैं जिसको करदाता अपने GST सम्बंधित कार्य करने की अनुमति दे सकता है.

करदाता क्या है | What is Taxpayer in Hindi !!

करदाता क्या है | What is Taxpayer in Hindi !!

एक करदाता जिसे taxpayer के नाम से भी जाना जाता है, ये एक व्यक्ति या संगठन (जैसे एक कंपनी), आदि कोई भी हो सकता है, जो अपनी आय पर कर देने के अधीन होता है. इन सभी करदाताओं के पास एक पहचान संख्या होती है, जो सरकार अपने नागरिकों के लिए संदर्भ संख्या के रूप में जारी करती है.

एक करदाता कोई भी वो व्यक्ति हो सकता है, जो कर के भुगतान के लिए, रिटर्न दाखिल करने के लिए, क्रेडिट प्राप्त करने के लिए और इसी तरह के अनुपालन के उद्देश्य से जीएसटी कानून के तहत पंजीकृत होता है या उसका पंजीकृत होना अनिवार्य होता है। तो इस प्रकार के लोगों को आमतौर पर GST में, ‘कर योग्य व्यक्ति’ के रूप में जाना जाता है।

जीएसटी प्रैक्टिशनर क्या है | What is GST Practitioner in Hindi !!

जीएसटी प्रैक्टिशनर क्या है | What is GST Practitioner in Hindi !!

जब कोई करदाता GST क़ानून के तहत विभिन्न प्रकार की फॉर्मेलिटी करता है, जैसे: GST का रजिस्ट्रेशन, GST के रिटर्न फाइल करना आदि. तब एक GST प्रैक्टिशनर उसकी सहायता कर सकता है अर्थात GST कानून के अनुसार कोई भी करदाता यदि चाहे तो अपने इस प्रकार के कार्य GST प्रैक्टिशनर के जरिये करवा सकता हैं.

GST प्रैक्टिशनर सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त वह व्यक्ति होता हैं जिसको करदाता अपने GST सम्बंधित कार्य करने की अनुमति दे सकता है, और उसके लिए GST प्रैक्टिशनर को पैसे भी मिलते हैं.

हमें आशा है कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट होंगे अगर आपको और अन्य किसी प्रकार की जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं | इन सब के अलावा अगर आलेख में कोई आप गलती पाते हैं तो वो भी कमेंट बॉक्स में में जरूर बताएं ताकि हम आगे आने वाले आलेख में सुधार कर पाए और आपको एक बेहतर सूचना से अवगत करा सके. धन्यवाद !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here